MP Pashupalan Loan Scheme 2021: Online Application Form, Eligibility, and Loan Amount

MP Pashupalan Loan Yojana 2021 at mpdah.gov.in | Pashupalan Loan MP Online Apply | Pashupalan पशुपालन ऋण ऑनलाइन आवेदन करें | पशुपालन विभाग मध्य प्रदेश | MP Dairy Loan Apply Online | Pashupalan Loan MP PDF Form Download | MP Pashupalan Loan Application Form

pashupalan-loan-yojana-mp

Dear Reader, today’s topic title is related to MP Animal Husbandry Loan Scheme / MP Pashupalan Loan Yojana / एमपी पशुपालन ऋण योजना 2021. In this article, you will get complete information on how to start your own business with a dairy farm loan in Madhya Pradesh. Under Madhya Pradesh Pashupalan Yojna, you will get a loan for dairy farms, goat farming, poultry farms, etc.

If you want to take advantage of this scheme, then you should know this scheme in brief. We will tell you how much loan amount is approved for any business. Information about the steps of applying online for a loan under this scheme, eligibility criteria, approved amount and advantages of this scheme, etc. are available in this article. So read this article very carefully.

PM Urea Subsidy Scheme 2021 | प्रधानमंत्री यूरिया सब्सिडी योजना

Details of MP Pashupalan Rin / Loan Yojana 2021 – एमपी पशुपालन ऋण योजना

MP Animal Husbandry’s goal is to increase livestock and make a necessary increase in milk production in the state. Small/marginal and landless workers can benefit from state government schemes and do animal husbandry and can increase their milk production in the state.

Madhya Pradesh has started a new loan scheme, such as the MP Animal Husbandry Loan Scheme. This is a very effective scheme, according to which unemployed candidates will start their business. So that they can feed their families. Not everyone can get a government or private job. So if you want to start your own dairy farm, raising goats, etc., you can apply under Pashupalan Rin Yojana 2021. All people who have one hectare of land in their name can benefit from this scheme.

Under this scheme, all unemployed youth who want to start their business through loans can apply for this program. At least 5 to 10 cows, goats, and buffaloes you can start your own dairy farm. As we know, unemployment is the biggest stigma our society faces nowadays. So this is a great opportunity to start your own business. Under this scheme, if any candidate qualified under this scheme can apply under this scheme and get a loan at very low installments.

[Mission Nagarodaya] MP Chief Minister Udyam Kranti Yojana 2021 | Online Application – Registration Form

Highlights of Madhya Pradesh Pashupalan Loan Scheme

Scheme NamePashupalan Loan Scheme
Department NameAnimal Husbandry Department
State NnameMadhya Pradesh
Scheme BeneficiaryFarmers of the state
Type of BenefitProviding loans to farmers
Key ObjectivesPromotion of animal husbandry in the state
Registration MethodOnline / Offline
Official WebsiteClick Here
Helpline Number7552772263

Objective of MP Pashupalan Loan Plan of scheme

The aim of the scheme is to provide insurance facilities to livestock owners for their animals, to compensate for the loss caused by the perishability of milk/non-milk/other animals, and to prevent economic losses. The project executing unit in Madhya Pradesh Livestock and Poultry Development Company. By adjusting the coordination of the Livestock Insurance Scheme managed by the Government of India prior to 2014-2015, the Livestock Insurance was included in the National Livestock Mission (Chhanjpavdans Spamjvba Dapvada) in the form of risk management, wherein it was included. Under the scheme, all types of animals (native milk / crossbred cows and buffaloes, and other animals such as horse/donkey/camel/male cow, pedigree buffalo/goat/sheep/pig/rabbit, etc.) will be benefited from insurance. Now, this scheme represents 25 percent of the central share of the beneficiaries above the poverty line.

mpcdf.nic.in-website

Main Points of Madhya Pradesh Animal Husbandry Loan Scheme

  • Under the Animal Husbandry Loans Scheme, loans will be given to only more than 5 animals.
  • The maximum Pashupalan Loan amount in Madhya Pradesh has been set at Rs 10 lakh.
  • All categories of people can benefit from this scheme.
  • Only 25% of the total cost of the project will be paid to the general category of persons.
  • People belonging to SC and ST will get a maximum of 33% of the project cost which is around Rs which will approach 200,000.
  • On 75% of the total amount involved in the scheme, 5% interest will be paid by the government throughout the year and more than 5% interest rate will be paid on behalf of the person benefiting from the scheme.
  • In this way, 75% of the amount will be received from the bank through a loan and the beneficiary himself will have to arrange the remaining 25%.

MP Pashupalan Yojana Loan Amount – एमपी पशुपालन योजना ऋण राशि

  • Under the Madhya Pradesh Animal Husbandry Loan Scheme, you can apply for the following loan amount.
  • Under this loan scheme, the Madhya Pradesh government offers a loan of a minimum of Rs 5 lakh and a maximum of Rs 10 lakh for an animal Pashupalan Yojana.
  • The total cost of your business is 100% and 75% of the amount is given by the state government through the loan amount. The remaining amount i.e. 25% is invested by the borrower.
  • Rs 1.50 lakh offered by the investor to the general category and 33% for SC/ST candidates i.e. more than Rs 2 lakh given by the government.
pashupalan-loan-yojana-mp-mpcdf

Eligibility Criteria of MP Pashupalan Rin Yojana

Here are the eligibility criteria for the animal husbandry loan program in Madhya Pradesh:

  • To avail of this scheme, candidates must be permanent citizens of Madhya Pradesh.
  • The candidate has 1 hectare of land to apply in his land.
  • You have at least 5 animals to start your own business.
  • All categories of people can apply for this scheme.
  • Applicant candidates do not take advantage of such a scheme.

Documents Required for Pashupalan Loan in Madhya Pradesh

Before applying for Animal Husbandry Loan in Madhya Pradesh, you are required to collect the following required documents:

  • Permanent residency certificate
  • Aadhar number
  • Caste certificate
  • Two passport size photos
  • Khasra number of land

Apply for Pashupalan Loan Yojana Scheme MP – पशुपालन ऋण योजना योजना के लिए आवेदन करें

pashupalan-loan-yojana-mp-official-website
  • On that page, you will see a link called Dairy Farm Loan.
  • As soon as you click on this link, the form will open in front of you, and after carefully reading the required information in it.
  • You will fill out this form step by step.
  • After filling out the complete form, the submit option button.
  • Your application or request will be registered as soon as you click on the Submit button.
Achievements under Major Activities
Bhopal Dugdha Sangh
Indore Dugdha Sangh
Ujjain Dugdha Sangh
Gwalior Dugdha Sangh
Jabalpur Dugdha Sangh
Bundelkhand Dugdha Sangh
All Dugdha Sangh

More information, please visit the link here – http://www.mpcdf.nic.in/English/statitic_e.htm

Contact or HelpDesk

DIRECTORATE OF ANIMAL HUSBANDRY

  • Address: Kamdhenu Bhawan, Vaishali Nagar, Kotra Sultanabad, Bhopal, 462003
  • Phone: 07552772263
  • Fax: 2772264
  • Email: dirveterinary@mp.gov.in

Department of ANIMAL HUSBANDRY – पशुपालन विभाग [Schemes List*]

नन्दी शाला योजना (अनुदान पर प्रजनन योग्य देशी वर्णित गौसांड का प्रदाय)

सं.क्र.योजनाविवरण
1.उददेश्यग्रामीण क्षेत्रो की स्थानीय अवर्णित/श्रेणीकृत,गौ वंशीय पशुओ की नस्ल सुधार हेतु देशी वर्णित नस्ल के सांडो का प्राकृतिक गर्भाधान संेवाये हेतु पशुपालको को अनुदान आधार पर प्रदाय । 
2.योजनाग्राम पंचायत स्तर पर प्रगतिशील पशुपालकों को अनुदान पर देशी वर्णित नस्ल गौ-सांड यथा साहीवाल,थरपारकर,हरियाणा,गिर,गौलव,मालवी,निमाडी,केनकथा आदि नस्ल के प्रदाय । ।योजना प्रदेश के सभी जिलों के ग्रामीण क्षेत्र के लिए लागू । 
3.हितग्राहीसभी वर्ग के पशुपालक जिनके पास पर्याप्त कृषि भूमि के साथ न्यूनतम 5 गौवंशीय पशुधन या जिनके पास कृषि भूमि नही है किन्तु 20 या उससे अधिक पशु है।
 योजना इकाईएक देशी वर्णित नस्ल गौ-सांड यथा साहीवाल,थारपारकर,हरियाणा,गिर,गौलव,मालवी,निमाडी,केनकथा आदि नस्ल के प्रदाय ।
प्रदायित सांड के प्रथम 60 दिवस के लिए पशु आहार
 इकाई लागतप्रदेश के बाहर के देशी वर्णित गौ-सांड की इकाई लागत (परिवहन, पशु बीमा, प्रदायित सांड के प्रथम 60 दिवस के लिए पशु आहार, प्रशिक्षण बुकलेट एवं माॅनिटरिंग कार्ड सहित) रू. 25720.00
प्रदेश के नस्ल के देशी वर्णित गौ-सांड की इकाई लागत रू 18260.00
 अनुदानप्रति इकाई अनुदान   75 प्रतिशत सभी वर्ग के पशुपालक.हितग्राही अंशदान      25 प्रतिशत
7.चयन प्रक्रियाआवेदक संबंधित ग्राम पंचायत को आवेदन पत्र प्रस्तुत करेगा ।खण्ड स्तरित पशु चिकित्सा विस्तार अधिकारी संबंधित जनपद पंचायत मे आवेदनों पर अनुमोदन प्राप्त करेगा।उपसंचालक प्राप्त प्रकरणों को उपलब्ध बजट अनुसार जिला पंचायत की कृषि स्थाई समिति में अनुमोदनार्थ प्रस्तुत कर अनुमोदन प्राप्त करेगा।चयन¨पराँत पशु चिकित्सा विभाग से अनुबंध करना अनिवार्य होगा।अन्य शर्ते जो विभाग द्वारा लागू की गई है।
8.संपर्कसंबंधित ग्राम पंचायत/निकटस्थ पशु चिकित्सा संस्था /उपसंचालक पशु चिकित्सा ।

समुन्नत पशु प्रजनन योजना (अनुदान पर प्रजनन योग्य पेडीग्रिड मुर्रा सांड का प्रदाय योजना सभी वर्ग के लिए)

सं.क्र.योजनाविवरण
1.उददेश्यनस्ल सुधार
2.योजनाइस योजना के अंतर्गत प्रगतिशील पशुपालक अथवा प्रशिक्षित गौ सेवक को पेडीग्रिड प्रजनन योग्य मुर्रा सांड प्रदाय किये जाते है।योजना प्रदेश के सभी जिलों मे लागू ।योजना , सभी वर्गों के लिए।
3.हितग्राहीसभी वर्ग के पशु पालक।
4.योजना इकाईप्रजनन योग्य पेडीग्रिड मुर्रा सांड़
5.इकाई लागतरूपये 45000.00 परिवहन, बीमा सहित ।
6.अनुदानसभी वर्ग के लिए 75 प्रतिशत शेष 25 प्रतिशत हितग्राही अंश
7.चयन प्रक्रियाहितग्राहियों का ग्राम सभा में अनुमोदन। ग्राम सभा से अनुमोदित हितग्राहियों का जनपद पंचायत की सभा में अनुमोदन। जनपद पंचायत के अनुमोदन उपरांत जिला पंचायत की कृषि स्थाई समिति की बैठक में अनुमोदन प्राप्त करना।
8.संपर्कसंबंधित जिले के निकटतम पशु चिकित्सा अधिकारी/पशु औषधालय के प्रभारी /उपसंचालक पशु चिकित्सा ।

बैंक ऋण एवं अनुदान पर (10+1) बकरी इकाई का प्रदाय(योजना सभी वर्ग के लिए)

सं.क्र.योजनाविवरण
1.उददेश्यदेशी बकरियों मे नस्ल सुधार लाना।हितग्राहियों की आर्थिक स्थिति मे सुधार लाना।मांस तथा दुग्ध उत्पादन मे वृद्धि करना।
2.योजनासभी वर्ग के भूमिहीन,कृषि मजदूर,सीमान्त एवं लघु कृषकों के लिये।हितग्राही को बकरी पालन का अनुभव हो।योजना प्रदेश के सभी जिलों में संचालित है।
3.हितग्राहीसभी वर्ग के भूमिहीन,कृषि मजदूर,सीमान्त एवं लघु कृषकों के लिये।
4.योजना इकाई लागतसं.क्र.                           विवरण                  (10+1) बकरी इकाई1.देशी स्थानीय नस्ल की बकरी दर 6000/- प्रति बकरी60000.002.1 जमुनापारी /बारबरी/सिरोही /बीटल बकरा7500.003.बीमा राषि 10.35: के दर से 5 वर्ष के लिये6986.004.बकरी आहार 3 माह के लिये 250 ग्राम प्रतिदिन रू 12/- प्रतिकिलो2970.00 योग77456.00
5.अनुदान प्रति इकाईअनुसूचित जनजाति / अनुसूचित जाति वर्ग के लिए  60  प्रतिशत्  अनुदान रु.46474.00
सामान्य वर्ग के लिये 40 प्रतिशत् अनुदान रु. 30982.00
इकाई लागत का 10 प्रतिशत् हितग्राही अंशदान, शेष बैंक ऋण      
6.चयन प्रक्रियाहितग्राहियों का ग्राम सभा में अनुमोदन। ग्राम सभा से अनुमोदित हितग्राहियों का जनपद पंचायत की सभा में अनुमोदन। जनपद पंचायत के अनुमोदन उपरांत जिले के उप संचालक पशुपालन विभाग अनुमोदित प्रकरण को स्वीकृति हेतु बैंक को प्रेषित कर स्वीकृति प्राप्त करेगें।  
7.संपर्कसंबंधित जिले के निकटतम पशु चिकित्सा अधिकारी/पशु औषधालय के प्रभारी /उपसंचालक पशु चिकित्सा ।

अनुदान के आधार पर नर बकरा प्रदाय योजना

सं.क्र.योजनाविवरण
1.उददेश्यदेशी / स्थानीय बकरियों की नस्ल मे सुधार लाना ।
2.योजनाइस योजना में सभी वर्ग के बकरी पालक को उन्नत नस्ल का एक नर बकरा अनुदान के आधार पर प्रदाय करने का प्रावधान।योजना प्रदेश के सभी जिलों मे क्रियान्वित।
3.हितग्राहीसभी वर्ग के बकरी पालक जिनके पास न्यूनतम 5 बकरियां हो। 
4.योजना इकाईजमनापारी,बारबरी एवं सिरोही बकरा
5.इकाई लागतरूपये 8300.00 ( बकरे का मूल्य 7500.00,बीमा राशि 2.75 प्रतिशत एक वर्ष हेतु रु. 206.00,मिनरल मिक्सचर रु. 394.00 एवं प्रशिक्षण बुकलेट व माॅनिटरिंग कार्ड हेतु 200.00 )
6.अनुदानसभी वर्ग के लिए 75 प्रतिशत एवं हितग्राही अंश 25 प्रतिशत ।
7.चयन प्रक्रियाहितग्राहियों का ग्राम सभा में अनुमोदन। ग्राम सभा से अनुमोदित हितग्राहियों का जनपद पंचायत की सभा में अनुमोदन। जनपद पंचायत के अनुमोदन उपरांत जिला पंचायत की कृषि स्थाई समिति की बैठक में अनुमोदन प्राप्त करना।
8.संपर्कसंबंधित जिले के निकटतम पशु चिकित्सा अधिकारी/पशु औषधालय के प्रभारी /उपसंचालक पशु चिकित्सा ।

अनुदान के आधार पर वराह (नर सूकर) प्रदाय (योजना केवल अनुसूचित जाति के हितग्राहियों के लिए)

सं.क्र.योजनाविवरण
1.उददेश्यदेशी / स्थानीय सूकरों की नस्ल मे सुधार लाना ।
2.योजनाइस योजना मे केवल अनुसूचित जाति एवं जनजाति वर्ग के लिए संचालित है।योजना प्रदेश के समस्त जिलों मे क्रियान्वित।
3.हितग्राहीअनुसूचित जाति/ जनजाति के वराह ( सूकर) पालक।
4.योजना इकाईएक मिडिल व्हाईट यार्कशायर प्रजनन योग्य नर वराह (नर सूकर )।
5.इकाई लागतरूपये 5000.00
6.अनुदानअनुसूचति जाति/जनजाति के सूकर पालकों के लिये 75 प्रतिशत् अनुदान शेष 25 प्रतिशत हितग्राही अंश |
7.चयन प्रक्रियाहितग्राहियों का ग्राम सभा में अनुमोदन। ग्राम सभा से अनुमोदित हितग्राहियों का जनपद पंचायत की सभा में अनुमोदन। जनपद पंचायत के अनुमोदन उपरांत जिला पंचायत की कृषि स्थाई समिति की बैठक में अनुमोदन प्राप्त करना।
8.संपर्कसंबंधित जिले के निकटतम पशु चिकित्सा अधिकारी/पशु औषधालय के प्रभारी /उपसंचालक पशु चिकित्सा ।

अनुदान के आधार पर वराह त्रयी (सूकर त्रयी) का प्रदाय) (योजना केवल अनुसूचित जाति/जनजाति के हितग्राहियों के लिए)

सं.क्र.योजनाविवरण
1.उददेश्यदेशी / स्थानीय वराह (सूकर) की नस्ल में सुधार लाना।
2.योजनाइस योजना मे अनुसूचित जाति/जनजाति  वर्ग के लिए संचालित है।योजना प्रदेश के समस्त जिलों मे क्रियान्वित।
3.हितग्राहीअनुसूचित जाति/जनजाति के वराह पालकों के लिए संचालित।
4.योजना इकाईदो मिडिल व्हाईट यार्कशायर मादा एवं एक नर मिडिल व्हाईट यार्कशायर
5.इकाई लागतरूपये 15000.00
6.अनुदानअनुसूचति जाति/जनजाति के सूकर पालकों के लिये 75 प्रतिशत् अनुदान शेष 25 प्रतिशत हितग्राही अंश  
7.चयन प्रक्रियाहितग्राहियों का ग्राम सभा में अनुमोदन। ग्राम सभा से अनुमोदित हितग्राहियों का जनपद पंचायत की सभा में अनुमोदन। जनपद पंचायत के अनुमोदन उपरांत जिला पंचायत की कृषि स्थाई समिति की बैठक में अनुमोदन प्राप्त करना। 
8.संपर्कसंबंधित जिले के निकटतम पशु चिकित्सा अधिकारी/पशु औषधालय के प्रभारी /उपसंचालक पशु चिकित्सा ।

अनुदान पर कुक्कुट इकाई का प्रदाय बिना लिंग भेद के 28 दिवसीय 40 रंगीन चूजों की बैकयार्ड इकाई 

सं.क्र.योजनाविवरण
1.उददेश्यकुक्कुट पालन के माध्यम से हितग्राहियों की आर्थिक स्थिति मे सुधार ।
 योजनायह योजना सभी वर्ग के हितग्राहियों के लियेबिना लिंग भेद के 28 दिवसीय 40 चूजे लो इनपुट टेक्नोलाॅजी खाद्यान्न,औषधि/टीकाकरण एवं परिवहन (चिक बाक्स सहित) का प्रावधानयह योजना समस्त जिलों मे संचालित है।
3.हितग्राहीयह योजना सभी वर्ग के कुक्कुट पालकों के लिए है ।
4.योजना इकाईबिना लिंग भेद के 28 दिवसीय 40 रंगीन चूजे ।
5.इकाई लागतबिना लिंग भेद के 28 दिवसीय 40 चूजों का मूल्य प्रति इकाई (प्रति चूजा रू 45/-)रू. 1800.00औषधि/टीकाकरण रू 5 प्रति चूजारू.200.00परिवहन (चिक बाक्स सहित )रू. 225.00योग इकाई लागतरू 2225.00
6.अनुदानसभी वर्ग के लिये 75 प्रतिशत
हितग्राही अंश 25 प्रतिशत
7.चयन प्रक्रियाहितग्राहियों का ग्राम सभा में अनुमोदन। ग्राम सभा से अनुमोदित हितग्राहियों का जनपद पंचायत की सभा में अनुमोदन। जनपद पंचायत के अनुमोदन उपरांत जिला पंचायत की कृषि स्थाई समिति की बैठक में अनुमोदन प्राप्त करना। 
 संपर्कसंबंधित जिले के निकटतम पशु चिकित्सा अधिकारी/पशु औषधालय के प्रभारी /उपसंचालक पशु चिकित्सा ।

अनुदान के आधार पर वराह त्रयी (सूकर त्रयी) का प्रदाय) योजना केवल अनुसूचित जनजाति के हितग्राहियों के लिए)

सं.क्र.योजनाविवरण
1.उददेश्यदेशी / स्थानीय वराह (सूकर) की नस्ल में सुधार लाना।
2.योजनाइस योजना मे केवल अनुसूचित जन जाति के वराह पालक को एक नर मिडिल व्हाईट यार्कशायर एवं दो मिडिल व्हाईट यार्कशायर मादा अनुदान के आधार पर प्रदाय करने का प्रावधान।योजना प्रदेश के अनुसूचित जन जाति बाहुल्य जिलों मे क्रियान्वित।
3.हितग्राहीअनुसूचित जन जाति के वराह पालक।
4.योजना इकाईदो मिडिल व्हाईट यार्कशायर मादा एवं एक नर मिडिल व्हाईट यार्कशायर
5.इकाई लागतरूपये 15000.00
6.अनुदानअनुसूचित जन जाति के सूकर पालकों को 75 प्रतिशत् अनुदान के आधार पर।
7.चयन प्रक्रियाहितग्राहियों का ग्राम सभा में अनुमोदन। ग्राम सभा से अनुमोदित हितग्राहियों का जनपद पंचायत की सभा में अनुमोदन। जनपद पंचायत के अनुमोदन उपरांत जिला पंचायत की कृषि स्थाई समिति की बैठक में अनुमोदन प्राप्त करना।
8.संपर्कसंबंधित जिले के निकटतम पशु चिकित्सा अधिकारी/पशु औषधालय के प्रभारी /उपसंचालक पशु चिकित्सा ।

अनुदान पर कडकनाथ चूजे का प्रदाय 

सं.क्र.योजनाविवरण
1.उददेश्यकुक्कुट पालन के माध्यम से हितग्राहियों की आर्थिक स्थिति मे सुधार एवं कडकनाथ नस्ल के संरक्षण एंव संवर्धन हेतु।
2.योजनायह योजना सभी वर्ग के हितग्राहियों के लिये बिना लिंग भेद के 28 दिवसीय 40 चूजे, खाद्यान्न, औषधि, परिवहन का प्रावधानयोजना प्रदेश के समस्त जिलों मे संचालित है।
3.हितग्राहीसभी वर्ग के कुक्कुट पालको के लिए ।
4.योजना इकाईबिना लिंग भेद के 28 दिवसीय 40 कडकनाथ चूजे
5.इकाई लागतबिना लिंग भेद के 28 दिवसीय 40 चूजों का मूल्य प्रति चूजा रू 65/-रू. 2600.00औषधि/टीकाकरण रू 5 प्रति चूजारू.200.00परिवहन (चिक बाक्स सहित )रू. 210.00कुक्कुट आहार 48 ग्राम प्रति पक्षी प्रतिदिन, 30 दिवस हेतु कुल आहार 58 किलो रू. 24 प्रतिकिलोरू. 1390.00योग इकाई लागतरू 4400.00
6.अनुदानसभी वर्ग के लिये 75 प्रतिशत
हितग्राही अंश 25 प्रतिशत
7.चयन प्रक्रियाहितग्राहियों का ग्राम सभा में अनुमोदन। ग्राम सभा से अनुमोदित हितग्राहियों का जनपद पंचायत की सभा में अनुमोदन। जनपद पंचायत के अनुमोदन उपरांत जिला पंचायत की कृषि स्थाई समिति की बैठक में अनुमोदन प्राप्त करना।
8.संपर्कसंबंधित जिले के निकटतम पशु चिकित्सा अधिकारी/पशु औषधालय के प्रभारी /उपसंचालक पशु चिकित्सा ।

आचार्य विद्यासागर गौ संवर्धन योजना

सं.क्र.योजनाविवरण
1.उददेश्यदुग्ध उत्पादन में वृद्धि।हितग्राहियों की आर्थिक स्थ्तिि मे सुधार लाना।पशुओं की दुग्ध उत्पादन क्षमता में वृद्धिरोजगार के अवसर प्रदाय करना
2.योजनायोजना सभी वर्ग के हितग्राहीयों के लिए।हितग्राही के पास 5 पशुओं हेतु  न्यूनतम 1 एकड़ कृषि भूमि होना आवश्यक है तथा पशुओं की संख्या में वृद्धि होने से आनुपातिक रूप से वृद्धि करते हुए न्यूनतम कृषि भूमि का निर्धारण किया जाएगा। मिल्क रूट को क्रियान्वयन को प्राथमिकता।
3.हितग्राहीसभी वर्ग केे सीमान्त एवं लघु कृषक। 
4.इकाई लागतपशुपालक न्यूनतम 5 या इसस¢  अधिक पशु की योजना स्वीकृत करा सकेगा तथा परियोजना की अधिकतम सीमा राशि रू. 10.00 लाख तक होगी ।परियोजना लागत का  75 प्रतिशत राशि बैंक ऋण के माध्यम से प्राप्त करनी होगी तथा शेष राशि की व्यवस्था मार्जिन मनी सहायता एवं हितग्राही का स्वयं के अंशदान के रूप में करनी होगी। इकाई लागत के 75 प्रतिशत पर या हितग्राही द्वारा बैंक से प्राप्त ऋण पर जो भी कम हो 5 प्रतिशत वार्षिक ब्याज की दर से (अधिकतम रू. 25,000 प्रतिवर्ष) ब्याज की प्रतिपूर्ति 7 वर्षों तक विभाग द्वारा की जाएगी। 5 प्रतिशत से अधिक शेष ब्याज दर पर ब्याज की प्रतिपूर्ति हितग्राही को स्वयं करना होगी।
5.मार्जिन मनी सहायतासामान्य वर्ग हेतु परियोजना लागत का 25 प्रतिशत्, अधिकतम रू. 1.50 लाखअनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति हेतु परियोजना लागत का 33 प्रतिशत्, अधिकतम रू. 2.00 लाख ।
6.चयन प्रक्रियाहितग्राहियों का ग्राम सभा में अनुमोदन। ग्राम सभा से अनुमोदित हितग्राहियों का जनपद पंचायत की सभा में अनुमोदन। जनपद पंचायत के अनुमोदन उपरांत जिले के उप संचालक पशुपालन विभाग अनुमोदित प्रकरण को स्वीकृति हेतु बैंक को प्रेषित कर स्वीकृति प्राप्त करेगें। 
 संपर्कसंबंधित जिले के निकटतम पशु चिकित्सा अधिकारी/पशु औषधालय के प्रभारी /उपसंचालक पशु चिकित्सा ।

वत्स पालन प्रोत्साहन योजना

सं.क्र.योजनाविवरण
1.उददेश्ययोजना का मुख्य उद्देश्य प्रदेश में भारतीय देशी नस्ल के गौवंश को बढ़ावा देने के लिए पशुपालकों को प्रोत्साहित करना एवं उनके पास उपलब्ध उच्च आनुवाशिंक गुणों वाले वत्सों का संरक्षण एवं संर्वधन करना है।
2.योजनाऐसे पशुपालक जिनके पास भारतीय देशी उन्नत नस्ल के पशु (गाय) है तथा जिनका दुग्ध उत्पादन उस नस्ल के पशुओं के औसत दुग्ध उत्पादन से 30 प्रतिशत अधिक है एवं उसका वत्स उच्च आनुवाशिंक क्षमता वाले भारतीय नस्ल के सांड़ के वीर्य से कृत्रिम गर्भाधान अथवा प्राकृतिक गर्भाधान द्वारा पैदा हुआ है। ऐसी गायों के पशुपालकों को प्रोत्साहित करने के लिए राशि रू.5000.00(पांच हजार) एवं उनके वत्सों के संरक्षण हेतु राशि रू.500.00(रूपये पांच सौ) प्रतिमाह पशु आहार/औषधी के रूप में 0-4 माह की उम्र से दो वर्षो तक प्रदाय की जाएगी। इस योजना में नर एवं मादा दोनो प्रकार के वत्स लाभान्वित हो सकेंगे।
3.हितग्राही यह योजना सभी वर्ग के हितग्राहियों के लिए है।
4.योजना  इकाईभारतीय देशी उन्नत नस्ल की ऐसी गायें जिनका दुग्ध उत्पादन उनकी नस्ल के औसत उत्पादन से 30 प्रतिशत अधिक है। एवं उनका वत्स उच्च आनुवाशिंक क्षमता वाले भारतीय सांडो के वीर्य से कृत्रिम गर्भाधान / प्राकृतिक गर्भाधान द्वारा उत्पन्न हुआ है।
5.इकाई लागत17000/- (रूपये सत्रह हजार मात्र) शत-प्रतिशत् अनुदान। राशि हितग्राही एवं पशु चिकित्सा सहायक शल्यज्ञ के संयुक्त खाते में जमा कर योजना की आवश्यकता अनुसार समय-समय पर आहरित की जाएगी।  
 
6.चयन प्रक्रियाऐसे समस्त पशुपालक जिनके पास भारतीय देशी उन्नत नस्ल के गौवंशीय पशु, जिनका दुग्ध उत्पादन उस नस्ल के पशुओं के औसत दुग्ध उत्पादन से 30 प्रतिशत अधिक है एवं उनका वत्स भारतीय देशी उन्नत नस्ल के सांड़ के वीर्य से कृत्रिम गर्भाधान/प्राकृतिक गर्भाधान द्वारा पैदा हुआ है। का पंजीयन एवं चयन विभाग द्वारा किया जाएगा। चयन समिति के समक्ष गायों के तीन बार के दोहन का औसत निकाला जाएगा एवं उच्च क्रम से प्रारंभ करते हुये उपलब्ध बजट अनुसार पशुपालकों को लाभान्वित किया जा सकेगा।
7.चयन समितिजिले के उप संचालक पशु चिकित्सा सेवायें समिति के अध्यक्ष होंगे एवं दो पशु चिकित्सा सहायक शल्यज्ञ/ पशु चिकित्सा विस्तार अधिकारी सदस्य होंगे।
8.संपर्क    जिले के सहायक पशु चिकित्सा क्षेत्र अधिकारी/पशु चिकित्सा विस्तार अधिकारी/पशु चिकित्सा सहायक शल्यज्ञ एवं उपसंचालक पशु चिकित्सा सेवायें।

गौसेवक प्रशिक्षण (प्रारंभिक एवं रिफ्रेशर)

सं.क्र.योजनाविवरण
1.उददेश्यशिक्षित बेरोजगार ग्रामीण युवकों को स्वरोजगार हेतु सक्षम बनाना एवं सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिक पशु चिकित्सा सेवा उपलब्ध कराना।
2.हितग्राहीप्रांरभिक प्रशिक्षण- सभी वर्ग के 10वीं पास 18 से 35 वर्ष के आयु के शिक्षित ग्रामीण बेरोजगार ।रिफ्रेशर प्रशिक्षण-प्रारंभिक प्रशिक्षण प्राप्त गौसेवक ।
3.चयन प्रक्रियाप्रांरभिक प्रशिक्षण हेतु प्रत्येक ग्राम पंचायत से वहाँ के निवासी 10वीं पास शिक्षित ग्रामीण बेरोजगार का चयन जनपद पंचायत के अनुमोदन पर किया जाएगा।रिफ्रेशर प्रशिक्षण – प्रारंभिक प्रशिक्षण प्राप्त गौसेवकों का वरिष्ठता के आधार पर चयन किया जाएगा।
4.इकाई लागतप्रारंभिक प्रशिक्षण- रू 1000.00 प्रतिमाह के मान से छः माह हेतु रू 6000.00 stipend, रू 1200.00 की कीट, इस प्रकार (कुल रू 7200.00 प्रति गौसेवक)रिफ्रेशर प्रशिक्षण- रू 500.00 की stipend एवं रू 100.00 की पाठ्य सामग्री इस प्रकार (कुल रू 600.00 प्रति गौसेवक)
5.स्टायपंडप्रांरभिक प्रशिक्षण एवं रिफ्रेशर प्रशिक्षण में क्रमशः 6000.00 एवं 500.00 का stipend शत् प्रतिशत विभाग द्वारा देय होगा। इसी प्रकार प्रारंभिक प्रशिक्षण में 1200.00 की किट (प्रति गौसेवक)एवं रिफ्रेशर प्रशिक्षण के लिए 100.00 की पाठ्य सामग्री (प्रति गौसेवक)भी शत् प्रतिशत विभाग द्वारा देय होगी।
6.संपर्कसंबंधित जिले के निकटतम पशु चिकित्सा अधिकारी/पशु औषधालय के प्रभारी /उपसंचालक पशु चिकित्सा ।

Questions and Answers (FAQs) – Pashupalan Loan Scheme

What is a pashupalan yojana loan?

Pashupalan/Animal husbandry is a branch of agricultural sciences under which various aspects of domestic animals such as food, shelter, health, breeding, etc. are studied.

How to get a loan on Pashupalan or animal husbandry?

Under the Animal Credit Scheme, while taking out a loan of up to Rs 1.60 lakh, only the farmer or animal husband will have to give an affidavit to the Deputy Director of Animal Husbandry and Dairy Department.

How much loan will be available under the Animal Husbandry Loan Scheme?

The loan can be availed with a maximum of 10 lakhs.

How many animals are required to build a shed?

At least 5 animals are required to be milky.

Read More:

[ई उपार्जन पोर्टल] MP E Uparjan 2021 – Farmer Online Registration Portal
मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री जन कल्याण संबल योजना 2021: आवेदन फॉर्म, कार्ड पंजीयन at sambal.mp.gov.in

Here we have provided all the information about the “MP Pashupalan Loan Scheme“. If you like this, you should definitely share it with people you know.

My friends, I hope you liked this article and got some new information. Please tell me in the comments.

Leave a Comment